तुमसे ब्रेकअप के सुख

A poem on breakup

चाय पीती हूँ अब मै गर्म गर्म
नही इंतज़ार करना पड़ता
चाय के ठंडे होने का
कि देर से चाय खत्म हो
तो देर तक तुम बैठोगे

इन्कलाब की तूतिया बजाती हूँ
नही तुम्हारे गुस्से का डर
कि दोस्तो संग सड़को पर
करूँ आवारियत तो तुम डाँटोगे
और मनाना होगा तुम्हे

रातों को नही जागना पड़ता अब
कि कब तुम निपटो अपने काम से
और तुम्हारे निर्धारित समय पर ही
तुम्हारी मर्ज़ी से ही
तुमसे बात हो
हर बंधन से मुक्त हूँ

यूँ ही कभी-कभार फ्लर्टिंग कर लेती हूँ यहाँ वहाँ
वो कहते हैं ना शौर्ट टर्म रिलेशनशिप
कोई जासूसी करने वाला नही
ज़रूरत नही सिमटने की

छन जाती है कभी कभार शराब भी
देर रात तक ढाबे का बटर चिकन
नौ से बारह का शो
दोस्तो संग ये हो हल्ला
उफ्फ के लम्हात वल्लाह

ठप्प पड़ा है मुलाकातो का कारोबार
बन-संवर तुमसे मिलने का मौसम
कल-परसो की बात हुई अब
आराम से उठती हूँ सुबह
आज़ादी की साँसे लेती हूँ
ज़रीदार ख्वाबो का कोई ज़िक्र नही

समय को निचोड़ने की नही पड़ी
घड़ी की सुईयो से नही लगता डर अब
कैद नही अब मैं
जो चाहे करती हूँ जब-तब

– यह कविता है ज्योत्सना बनर्जी की। वे आगरा में रहती हैं और एफएम रेडियो में काम करती हैं। 


LEAVE A REPLY